9 अगस्त को लेकर युवा आदिवासी विकास संगठन & आकास आठनेर कि बैठक सम्पन


आज दिनांक 21/07/021को विश्व आदिवासी दिवस पर आज आदिवासी मंगल भवन में बैठक रखा गया।जिसमें युवा आदिवासी विकास संघटनआठनेर,आदिवासी कर्मचारी आकाश संघटन आठनेर संघ विश्व आदिवासी दिवस 09अगस्त पर विशेष चर्चा किया। जिसमें युवा आदिवासी विकास संघटन आठनेर मीडिया प्रभारी ने बताया कि आदिवासी समाज को 09अगस्त को पूरे आदिवासी समाज इसे एक त्यौहार के रूप में मनाने के लिए गांव गांव तक मनाने के लिए पहुंचना जरूरी है। जो हमारे समाज के पिछड़े हुए लोग है हमें उन्हें भी 09 अगस्त के बारे में भी बताना है। जनपद पंचायत आठनेर अध्यक्ष तिरुमल रावणचरण इडपाचे जी बताया सभी सदस्यों की बात रखते हुए कहा कि विश्व आदिवासी दिवस को आठनेर में 10 सेक्टरों में अलग अलग जगह मानना है। एवं जिससे जो हमारे ग्राम स्तर के लोगो जानकारी जाएंगी और इससे बड़े धूमधाम से मनाया जाएगा।और साथ ही आदिवासी ग्राम में पारंपरिक ग्राम सभा का गठन किया जाना चाहिए।जिससे आदिवासी समाज उबरे और अपने मौलिक अधिकारों को जानने की कोशिश करें। पांचवीं और आकाश संघटन आठनेर अध्यक्ष तिरु. धनराज उयके ने बताया कि विश्व आदिवासी दिवस ग्राम स्तर के आठनेर ब्लाक में भी मनाया जाएगा ।

यु.आ. वि. संघ.ब्लाक अध्यक्ष तिरू. जयचंद सरियाम जी ने कहा कि कोविड-19 की कोरोना तीसरी लहर जो आने वाली है इससे देखते हुए शासन की जिम्मेदारियों का भी पालन कर हम सभी को विश्व आदिवासी दिवस को हमें अलग अलग ग्राम स्तर ही मानना चाहिए।

कार्यवाहक अध्यक्ष तिरु. सुभाष उइके

और समाज की विकास के लिए निम्न बिंदुओं पर पहल किया और साथ ही भारतीय संविधान जिसमें हमें हमारे मौलिक अधिकारों को जानना बहुत आवश्कता है।जिससे समाज विकास के लिए निम्न बिंदुओं पर चर्चा किया

कमल मर्सकोले द्वारा विश्व आदिवासी दिवस को समाज को नशा मुक्त के लिए हर ग्राम स्तर पर नशा मुक्त अभियान चलाया जाना चाहिए।और समाज के लिए निम्न बिंदुओं में अपनी बात रखी।


स्वास्थ्य विभाग डॉक्टर इडपाचे ने बताया कि साथ में कोविड 19 ध्यान मे रखते हुए विश्व आदिवासी दिवस 9 अगस्त को मनाना जाना है जो पूरे भारतवर्ष में प्रदेश से लेकर ग्रामीण स्तर तक मनाया जाएगा।


सुभाष उयके कार्यवाहक अध्यक्ष द्वारा उन्होंने कहा कि विश्व आदिवासी दिवस को हमें घर घर में मनाना चाहिए।उन्होंने अपनी बात रखी है कि विश्व आदिवासी दिवस को हम हमारे समाज को लोगों तक पहुंचाना है विश्व आदिवासी दिवस के बारे में बताना है और साथी भारतीय संविधान ओके दिए गए अधिकारों को जानना बहुत जरूरी है


लक्ष्मन आहाके ने कहा कि 09 अगस्त को हमें अपने अपने घर के आगन के सामने दिए लगाने को कहा।


मीडिया प्रभारी कमल धुर्वे ने बताया कि समाज की नीव तभी अच्छी रख सकते है जब समाज शिक्षित होंगी।जब भी समाज सेवा की बारी है तो तन मन धन से आगे आए।


युवा साथी सतीश इवने ने बताया कि हमारे समाज को शिक्षा के क्षेत्र में आगे आना होगा।साथ ही बैठक के माध्यम से नेमावर की घटना को लेकर बताया की हमारे समाज के छात्र/छात्रों को बात रखी कि प्यार प्रसंग से किसी के झासे मे ना आए।


डॉ.रामसिंग मर्सकोले ने बताया कि विश्व आदिवासी दिवस शहरी क्षेत्रों परस्पर सभी जानते और मनाते भक है लेकिन जो ग्रामीण आचलों मे आज भी वंचित है विश्व आदिवासी दिवस ग्राम स्तर ही मनाया जाएगा जिससे हमारे समाज को इसके बारे पता होंगा और साथ ही परम्परा वेश भूषा और अधिकारो जानकारी उन्हें प्राप्त होंगी।



133 views0 comments